Shayari On Khuda | Top 8 Best Shayari On RAB

Latest collection of Shayari on Khuda.

1. Shayari On Khuda, Siyahi Khushk Ho Gayi…

great-khuda-shayari-siyahi-khushk

Siyahi khushk ho gayi teri hamd likhte likhte
Aye ‘REHMAAN’ tera martaba hi kuch aisa hai

सियाही खुश्क हो गयी तेरी हम्द लिखते लिखते |
ऐ ‘रहमान’ तेरा मर्तबा ही कुछ ऐसा है ||

Hamd:  Praising GOD  ईश्वर की प्रार्थना।

 

2. Shayari On Khuda Ki Rehmat, Maaf Kardega

hindi-shayari-tu-REHMAAN-hai

Aye khuda kya khoob hai teri khudai
Zameen pe maine jo apne gunah ki chadar hai bichai

Tu REHMAAN hai, RAHEEM hai be-misaal hai mere RAB
Tu sare hi maaf kardega jo meri aankh duaon me bhar aayi.

ऐ खुदा क्या खूब है तेरी खुदाई |
ज़मीन पे मैने जो अपने गुनाह की चादर है बिछाई ||

तू रहमान है, रहीम है, बे-मिसाल है मेरे रब |
तू सारे ही माफ़ कर देगा जो मेरी आँख दुआओं मे भर आई ||

 

3. Shayari On Khuda Se Dua, Bande Tu Hi Nahi

shayari-on-rab-uska-ghar

Uska ghar nahi hai, duniya ki kisi shay se khali
Bande tu hi nahi jaata, uske dar pe ban ke sawali

उसका घर नहीं है दुनिया की किसी शय से ख़ाली |
बन्दे तू ही नहीं जाता उसके दर पे बनके सवाली ||

 

4. Wo KHALIQ Hamara

shayar-in-hindi-jo-toofan-me

Jo toofan me tujhko basera de
Jo raat ke baad sawera de

Garmi me thandi dil-sozi de
Sardi me jism ko tere garm-joshi de

Bhook se pehle bande ko rozi de
Bujhte hue chiragh ko phir afrozi de

Wo KHALIQ hamara, sabse pyara
Jis ke ma’tahat hai, ye jag sara…

जो तूफान मे तुझको बसेरा दे
जो रात के बाद सवेरा दे

गर्मी मे ठंडी दिल सोज़ी दे
सर्दी मे जिस्म को तेरे गर्म-जोशी दे

भूक से पहले बंदे को रोज़ी दे
बुझते हुए चिराग़ को फिर अफ़रोज़ी दे

वो खालिक़ हमारा, सबसे प्यारा
जिस के मा’तहत है, ये जाग सारा…

Sozi: Compassion, Sympathy दया
Afroz: One that brightens , रौशन करने वाला.
Ma’tahat: Dependent निर्भर

5. Jab Tera RAB

hindi-shayari-jab-tera-RAB

Kabr me andhera hoga ya noor hoga
Wahi hoga jo duniya me tera dastoor hoga

Aaj ka kiya kal bhula diya jayega
Par kiraman katibeen key hatoon likh diya jaega

Aaj ki ibadat kal rang laegi
Andheri kabr me sawalo k hal laegi

Tera sabr ka tujhko kya khoob ajr mil jaega
Jab tera RAB tera mezbaan ban jaega.

कब्र मे अंधेरा होगा या नूर होगा
वही होगा जो दुनिया मे तेरा दस्तूर होगा

आज का किया कल भुला दिया जाएगा
पर किरामन कातीबीन के हाथों लिख दिया जाएगा

आज की इबादत कल रंग लाएगी
अंधेरी कब्र मे सवालो क हल लाएगी

तेरा सब्र का तुझको क्या खूब अज्र मिल जाएगा
जब तेरा रब तेरा मेज़बान बन जाएगा.

Kiraman Katibeen = Angels who write all your good and bad deeds कर्मों को लिखने वाले फरिश्ता
Ajr: In return किसी चीज़ का सिला मिलना
Mezbaan: Host आतिथेय, आमंत्रित करने वाला

6. Bhatak raha tha dar-ba-dar

Bhatak raha tha dar-ba-dar, mein pasho-pesh hokar
Chaukaht-e-Khuda par thithka to dil ko qaraar aya

Aati thi har oor se zillat bhari chitkaarein, phusphusahatein
Mein uske samne gidgidaya to dil ko qaraar aya

Jo maqsad pur na hota tha mehfilon ki jumbishon mein
Mere har sawal pe mera Maula muskuraya to dil ko qaraar aya

Liye phirta tha Abdullah, gunah samandar ke jhaag jitney
ALLAH ne ek sacchi tauba pe unko muaaf kiya to dil ko qaraar

भटक रहा था दर-ब-दर , मैं पशोपेश होकर |
चौखट-ए-ख़ुदा पर ठिठका, तो दिल को क़रार आया ||

आती थी हर ओर से ज़िल्लत भरी चीत्कारें, फुसफुसाहटें |
मैं उसके सामने गिड़गिड़ाया तो दिल को क़रार आया ||

जो मक़सद पुर न होता था महफ़िलों की जुम्बिशों में |
मेरे हर सवाल पर मेरा मौला मुस्कुराया तो दिल को क़रार आया ||

लिए फिरता था अब्दुल्लाह, गुनाह समंदर के झाग जितने |
अल्लाह ने एक सच्ची तौबा भर से उनको माफ़ किया तो दिल को क़रार आया ||

7. Wo Khuda! Ham sab bando ka malik

Chaand sitaare jiske huqm ke mohtaaj hai
Jiski marzri se parso, kal aur aaj hai

Jiski bandagi karne ko qayinat bani
Jiske liye ibaadat ke sare kaam kaaj hai

Duniya ki har sahulat se tapakti hai mohabbat jiski
Wo Khuda! Ham sab bando ka malik, hamara sartaaj hai

Maujood hai wo har jagah, zarra zarra uski marzi se hai bana
Ahmak hai wo, jisko uske sach hone ke khilaaf ehtijaaj hai

चाँद सितारे जिसके हुक्म के मोहताज हैं।
जिसकी मर्जी से परसों, कल और आज हैं ॥

जिसकी बंदगी करने को कायनात बनी।
जिसके लिए इबादत के सारे काम काज हैं॥

दुनिया की हर सहूलत से टपकती है मुहब्बत जिसकी।
वो खुदा ! हम सब बंदों का मालिक, हमारा सरताज है॥

मौजूद है वो हर जगह, ज़र्रा ज़र्रा उसकी मर्जी से है बना।
अहमक़ है वो, जिसको उसके सच होने के खिलाफ एहतिजाज  है॥

Ehtijaaj: Objection आपत्ति

8. Khuda par Shayari, Wo mera RAB hai AL-WAAHID

Hai nashiston ka pyaasa, apni aabaadi chahe muhajir
Koi to pukare usko, isi intezaar me ye muntazir

Muskurahatein hai usne baanti, jahan bhi gaya ye musafir
Fir bhi man ki jholi hai khali, aankhon mein nami hai har din ke aakhir

Zindagi ke saaz pe behta, ALLAH hu, har lamhe me kehta
Shayad mile kabhi saahil isko, chhupa ilm kabhi ho jaaye zaahir

Sarfarazi uski har shaye mein, wo mera RAB hai AL-WAAHID
Har reshe ka usko haal hai pata, wo mera KHALIQ, mera maalik, AL-WAAJID

है नशिश्तों का प्यासा, अपनी आबादी चाहे मुहाजिर
कोई तो पुकारे उसको, इसी इंतेज़ार मे ये मुंतज़ीर

मुस्कुराहटें है उसने बाँटी, जहाँ भी गया ये मुसाफिर
फिर भी मन की झोली है खाली, आँखों में नामी है हर दिन के आख़िर

ज़िंदगी के साज़ पे बहता, अल्लाह हू, हर लम्हे मे कहता
शायद मिले कभी साहिल इसको, छुपा इल्म कभी हो जाए ज़ाहिर

सरफ़राज़ी उसकी हर शाए में, वो मेरा रब है अल-वाहिद
हर रेशे का उसको हाल है पता, वो मेरा खालिक़, मेरा मालिक, अल-वाजिद

Nashiston: Gathering सभा
Muhajir: One who leaves his town/city/village and resides at another place अपने देश को छोड़कर दूसरे देश में बसने वाले
Muntazir: One who waits for प्रतीक्षा करनेवाला
Sarfarazi: One who is at highest position जो ऊँचे ओहदे या पद पर हो, सम्मानित
AL-WAAHID: One of the names of ALLAH which means Absolute One जो अकेला हो, जिसका कोई शरीक ना हो
AL-WAAJID: One of the names of ALLAH which means The Inventor and Maker बनाने वाला

Leave a Reply