Sad Shayari In Hindi With Pictures

Sad Shayari In Hindi With Pictures. Get the latest and unique collection of Sad Shayari, describing some painful and worst situations of life which are very much relatable. Share it with your friends and social media platforms.

1. Sad Shayari In Hindi With Pictures- Tujhe Paane ke Junoon me

sad-shayari-tujh-ko-paane-junoon-me

Tujhe paane ke junoon me ham kuch na sun sake…
Ke kitno ne mere liye anginat ash’aar kahe the

तुझे पाने के जुनून में हम कुछ न सुन सके…
कि कितनों ने मेरे लिए अनगिनत अशआर कहे थे।।

Anginat :  Infinite  अनंत

3. Emotional Sad Shayari: Tujhe Kya Khabar

breakup-shayari-tujhe-kya-khabar

Tujhe kya khabar kya beet gayi mujhpe…
Ye murdar jism aur chhalni dil teri us do pal ki muhabbat ka sila hai …

तुझे क्या ख़बर क्या बीत गयी मुझपे…
ये मुर्दार जिस्म और छलनी दिल तेरी उस दो पल की मुहब्बत का सिला है।।

4. Hindi Sad Shayari with pictures – Mulakatein Nahi Hoti

Mulakatein-nahi-hoti-hindi-shayari

Jinke pehlu me kat jaati thi shaamein kayi, unse ab mulakatein nahi hoti…
Neend to aati ab bhi hai par ye palkein nahi soti…

जिनके पहलू में कट जाती थी शामें कई, उनसे अब मुलाकातें नहीं होती…
नींद तो आती अब भी है, पर ये पलकें नहीं सोती।।

5. Pictures of Hindi Sad Shayari – Pani peene na diya

Paani-peene-na-diya-sad-hindi-shayari

Raasta jo hua hamara kuch alag unse…
Wo door bhi hue, par ahsas na hone diya…

Pyasa jo raha musaafir, raste bhar…
Unhone tarawat ke waade to kiye, par paani peene na diya….

रास्ता जो हुआ हमारा कुछ अलग उनसे
वो दूर भी हुए, पर अहसास न होने दिया
प्यासा जो रहा मुसाफ़िर रास्ते भर…
उन्होंने तरावट के वादे तो किये, पर पानी पीने ना दिया।।

Tarawat : Quenching the thirst  तरी

6. Sad Hindi Shayari – Khudi se bichad ke

khudi-se-bichad-ke-alone-shayari-hindi

Khud ko khudi se bichad ke khud ko jana hai hamne
Apne aap me rehte hue rago me khun laga tha jamne

Dekhe the jiske sath khush rehne ke sapne
Usi se dukhi rehne ka kaaran liya hai hamne…

ख़ुद को ख़ुद ही से बिछड़ के ख़ुद को जाना है हमने
अपने आप में रहते हुए, रगों में ख़ून लगा था जमने

देखे थे जिसके साथ खुश रहने के सपनें
उसी से दुखी रहने का कारण लिया है हमनें।।

 

7. Mere Dard Ka Itna To

Mere dard Ka itna to lehaaz karte jaate
Bas haath hi pher dete, jaate jaate

Aise ruthe k chaman bhi murjha sa gaya
Tum dekh liya karo mujhe, kabhi aate jaate

Teri naarazgi, ghata hai kali mere ashaar par
Tum muskura kar hata kyu nahi dete, jaate jaate

Wo pehli mulaqat me, jo chuwa tha tuney aankhon se
Aaj aakhiri dafa de do, wo ehsas jate jate

Mere dard ka itna to lehaaz karte jaate
Bas haath hi pher dete, jaate jaate…

मेरे दर्द का इतना तो लेहाज़ करते जाते

बस हाथ ही फेर देते, जाते जाते

ऐसे रूठे के चमन भी मुरझा सा गया

तुम देख लिया करो मुझे, कभी आते जाते

तेरी नाराज़गी, घटा है काली मेरे अशआर पर

तुम मुस्कुरा कर हटा क्यू नही देते, जाते जाते

वो पहली मुलाक़ात मे, जो छुआ था तूने आँखों से

आज आख़िरी दफ़ा दे दो, वो एहसास जाते जाते

मेरे दर्द का इतना तो लेहाज़ करते जाते

बस हाथ ही फेर देते, जाते जाते

Chaman : Garden  बगीचा

8. Barish Me Chal Raha Hu

Barish me chal raha hu apne ashq chupane k liye
Aag dhund raha hu tere khat jalane k liye

Ye tune kya kar diya apni garaz k khatir
Mitti dhund raha hu, teri yaadon ko dafnane k liye

Khaak me mil gaya mera guroor jo tha apni mohabbat pe
Paani dhundh raha hu,teri lagai bujhane k liye

Faqat tujhse hi sukoon tha mere deed aur qalb ko
Ab dhaar dhundh raha hu inko bahar nikaalne k liye

Bikhar gaya tha mera jahan tere qubool k un do bol pe
Ab dawa dhundh raha hu hamesha chain se so jaane k liye.

Barish me chal raha hu apne ashq chupane k liye
Aag dhund raha hu tere khaal-o-khat jalane k liye

बारिश मे चल रहा हूँ अपने अश्क़ छुपाने लिए

आग ढूंड रहा हूँ तेरे खालखत जलाने लिए

ये तूने क्या कर दिया अपनी ग़र्ज़ के खातिर

मिट्टी ढूंड रहा हूँ, तेरी यादों को दफ़नाने के लिए

खाक मे मिल गया मेरा गुरूर जो था अपनी मोहब्बत पे

पानी ढूँढ रहा हूँ,तेरी लगाई बुझाने के लिए

फक़त तुझसे ही सुकून था मेरे दीद और क़ल्ब को

अब धार ढूँढ रहा हूँ इनको बाहर निकालने लिए

बिखर गया था मेरा जॅहा तेरे क़ुबूल के उन दो बोल पे

अब डॉवा ढूँढ रहा हूँ हमेशा चैन से सो जाने लिए.

बारिश मे चल रहा हूँ अपने अश्क़ छुपाने लिए

आग ढूंड रहा हूँ तेरे खालखत जलाने लिए ||

Ashq :  Tears

Garaz : Matlabi hona  स्वार्थी

Faqat : Only  सिर्फ़

Deed:  Eyes  आँखें

 

9. So Gai Hai Aankhe

So gai hai aankhe par palkey jaag rahi hai

Dekho waqt ki suiyan kitni tez bhag rahi hai

Moti peron peron kar tu ab q mala bana rahi hai

Dekho wo shahragh dhere dhere kisi aur ki hoti ja rahi hai

Aey samandar ab tera shor khamosh q ho gaya

Kya saamne se tere sanam ki kashti aa rahi hai

Aey parind tu q mera paigam wapas le kar aa gaya

Kya ab mere khaton ki bhi pehchaan mangi ja rahi hai

Meri zingadi teri raftaar q dheemi pad gayi hai

Kya teri dhadkane ab kisi aur k sath bandhi ja rahi hai

सो गई है आँखे पर पलके जाग रही है
देखो वक़्त की सूइयां कितनी तेज़ भाग रही है
मोती पिरो कर तू अब क्यू माला बना रही है
देखो वो शहरग धीरे धीरे किसी और की होती जा रही है
आए समंदर अब तेरा शोर खामोश क्यू हो गया
क्या सामने से तेरे सनम की कश्ती आ रही है
आए परिंद तू क्यू मेरा पैगाम वापस ले कर आ गया
क्या अब मेरे खातों की भी पहचान माँगी जा रही है
मेरी ज़िंगदी तेरी रफ़्तार क्यू धीमी पद गयी है
क्या तेरी धड़कने अब किसी और के साथ बाँधी जा रही है
Shahragh : A blood vein present in the throat  गर्दन मे पाई जाने वाली एक नस का नाम

Leave a Reply