Best Attitude Shayari for a Boy | Top Attitude Shayari

Best Attitude Shayari for a Boy. Free to share on social media platforms.

1. Best for a Boy – Attitude Shayari, Nadan Hai Wo Log

attitude-shayari-nadaan-hai-wo-log

Nadan hai wo log jo heeron ko thukra dete hai.
Rote hai fir har jagah wo, veeraniyon me bhi millaton me bhi.

नादान है वो लोग जो हीरों को ठुकरा देते हैं |
रोते है फिर हर जगह, वीरानियों में भी, मिल्लतों में भी।।

Millaton:

2. Mein Kyu Apne Gamon Ki

attitude-shayari-nadaan-hai-wo-log

Mein kyu apne gamo ki numaish apne hi ash’aar mein karu.
Is duniya ko mujhe kya dena hai siwaye ek ‘waah’ ke.

मैं क्यों अपने ग़मों की नुमाइश अपने ही अशआर में करूँ |
इस दुनिया को मुझे क्या देना है, सिवाय एक ‘वाह’, के ??

 

3. Attitude Shayari for a Boy – Dil Mera Lena Yuhi

hindi-shayari-attiude-ek-raat-guzaro

Ek raat guzaro mere pehlu mein.
Meri rooh me utar jao.

Kuch to suboot do k tumko unsiyat hai mujhse.
Dil mera lena yuhi harchand ke bus ki baat nahi hai.

एक रात गुज़ारो मेरे पहलू में |
मेरी रूह में उतर जाओ ||

कुछ तो सुबूत दो कि तुमको उनसियत है मुझसे |
दिल मेरा लेना यूँ ही हर-चन्द के बस की बात नहीं है ।।

Unsiyat:

4. Baa-izzat Jane Diya

attitude-hindi-shayari-ba-izzat-jaane-diya

Hamne tumko apna dil diya, tumne na kuch uska sila diya.
Chhod gaye tum yuhi mere armano ko bilakhta hua.
Ye ham hi the jo tumko baa-izzat jaane diya.

हमने तुमको अपना दिल दिया, तुमने ना कुछ उसका सिला दिया |
छोड़ गये तुम यूही मेरे अरमानो को बिलखता हुआ ||
ये हम ही थे जो तुमको बा-इज़्ज़त जाने दिया |||

 

5. Best Attitude Shayari for a Boy – Jo Bata Diya Zamane Ko

shayari-hindi-jo-bata-diya-zamane-ko

Jo bata diya zamane ko, to phir kya baat rah jaegi
Mere kalam ki siyahi me, na phir wo rawangi rah jaegi

Parde me rehne dijiye, meri mohabbat ko janab.
Aapko uski surat meri shayari me nazar aaegi.

जो बता दिया ज़माने को, तो फिर क्या बात रह जाएगी |
मेरे क़लम की सियाही मे, ना फिर वो रवानगी रह जाएगी ||

पर्दे मे रहने दीजिए, मेरी मोहब्बत को जनाब |
आपको उसकी सूरत मेरी शायरी मे नज़र आएगी ||

6. Waqt Me Bada Hai Dam

Kar sakta hai kitney zulm-o-sitam bas ye dekh rahe hai ham
Waqt to tera bhi badlega ek din, chahe phir us din na rahe ham

Na sada reh paye zinda firawn, mit gaye jahan se
Yaqeen hai ount aayega pahaad ke neeche, waqt me bada hai dam

कर सकता है कितने ज़ुल्मों सितम बस ये देख रहे है हम।
वक़्त तो तेरा भी बदलेगा एक दिन चाहे फिर उस दिन न रहे हम।

न सदा रह पाएं ज़िंदा फ़िरऔन, मिट गए जहां से।
यकीन है ऊँट आएगा पहाड़ के नीचे, वक़्त में बड़ा है दम।

Firawn : Was a very arrogant ruler  एक बहुत ही अहंकारी राजा था

7. Kya Kalaam Likhu

Is kalam se mai ab kya kalaam likhu
Tere dur jane pe, mai ab kis se baat karu

Ye siyahi rawan thi vasl ki shaymo me
Tere hijr pe, ye mujshe ruth gai to mai kya karu

Piroota tha apni mohabbat ko moti ki tarah
Tera bikhera akele sameit raha,tu hi bata kisi saath lu

Har waqt afsoos hai mujhe teri bewafai Ka
Tera jane par ab mai kis k saath manzil ka raasta tai karu.

Rafaqat ab mujh ko bhi Kisi aur se ho gai hai
Munfarid hai wo bahut tujhse, soch raha hu ussey hi unsiyat puri karu.

Pal do pal Ka mil Kar bichad jana koi ittefaaq nahi tha
Kuch haqiqat thi dhaki parde me, Ab mai tere kya kya raaz faash karu

इस कलम से मै अब क्या कलाम लिखू |
तेरे दूर जाने पे, मै अब किस से बात करू ||

ये सियाही रवाँ थी वस्ल की शामो मे |
तेरे हिज्र पे, ये मुझसे रूठ गई तो मै क्या करू ||

पिरोता था अपनी मोहब्बत को मोटी की तरह |
तेरा बिखेरा अकेले समेट रहा,तू ही बता किसी साथ लू ||

हर वक़्त आफ़सूस है मुझे तेरी बेवफ़ाई का |
तेरा जाने पर अब मै किस क साथ मंज़िल का रास्ता तय करू ||

रफ़ाक़ात अब मुझ को भी किसी और से हो गई है |
मुनफरिद है वो बहुत तुझसे, सोच रहा हू उससे ही उनसियत पूरी करू ||

पल दो पल का मिल कर बिछड़ जाना कोई इत्तेफ़ाक़ नही था |
कुछ हक़ीक़त थी ढकी पर्दे मे, अब मै तेरे क्या क्या राज़ फ़ाश करू ||

Vasl: Meeting (especially used in the context of lovers) मिलन
Hijr: Separation जुदाई
Rafaqat: Connection मेल जोल।
Munfarid: Different अलग
Unsiyat: Love प्रेम

8. Top Attitude Shayari for a Boy – Tera Hamne Intezaar Kiya

Muddaton tak jo tera hamne intezaar kiya.
Apne dil-o-jigar ko begharaz hi bezaar kiya.

Dilasa dete rahe roz hi khud ko.
Har ahsaas ko tune mere taar-taar kiya.

Ham sochte the k ye sitam tera akhiri hoga.
Par tune wahi sitam bar-bar kiya.

Tha dilasa mere man ko, kuch tere mere raazon ko lekar.
Tune har ek wo raaz mera sar-e-bazaar kiya.

Thi hattul-imkaan koshish hamari, puri karde har khwahish.
Jiska ek baar bhi teri zubaan se izhaar hua.

Tamanna itni si thi, tu mera rahe.
Tune laakh minnaton ko meri darkinaar kiya.

To jaa fir meri teri yahan hoti hai alag.
Khwaar ho jaye ham bhi agar ab se teri aankhon se apni ko do chaar kiya.

मुद्दतों तक जो तेरा हमने इंतेज़ार किया |
अपने दिल-ओ-जिगर को बेगरज़ ही बेज़ार किया ||

दिलासा देते रहे रोज़ ही खुद को |
हर अहसास को तूने मेरे तार-तार किया ||

हम सोचते थे के ये सितम तेरा आख़िरी होगा |
पर तूने वही सितम बार-बार किया ||

था दिलासा मेरे मान को, कुछ तेरे मेरे राज़ों को लेकर |
तूने हर एक वो राज़ मेरा सर-ए-बाज़ार किया ||

थी हात्तुल-इमकान कोशिश हमारी, पूरी कर दे हर ख्वाहिश |
जिसका एक बार भी तेरी ज़ुबान से इज़हार हुआ ||

तमन्ना इतनी सी थी, तू मेरा रहे |
तूने लाख मिन्नतों को मेरी दरकिनार किया ||

तो जा फिर मेरी तेरी यहाँ होती है अलग |
ख्वार हो जाए हम भी अगर अब से तेरी आँखों से अपनी को दो चार किया ||

Muddaton: A span of time एक अरसे के बाद
Bezaar: To be sick of / apathetic अप्रसन्न
Hattul-imkaan: Not leaving any loose ends  पूरी कोशिश करना
Khwaar: Insult अपमान

Leave a Reply